Home उत्तराखंड छात्रवृति सहित अन्य मांगो को लेकर छात्रों ने कलक्ट्रेट में किया प्रदर्शन

छात्रवृति सहित अन्य मांगो को लेकर छात्रों ने कलक्ट्रेट में किया प्रदर्शन

21
0
SHARE

डीबीएल संवाददाता/ उत्तरकाशी | रामचंद्र उनियाल राजकीय महाविद्यालय के शिक्षा संकाय के छात्र -छात्राओं ने समय पर बीडीए की परीक्षायें संपंन न करवाने तथा छात्रवृति आवेदन हेतु पोर्टल बेबसाइट को असमय खोले एवं बंद किए जाने पर कड़ी नराजागी व्यक्त की। छात्रों ने कलक्ट्रेट पहुंचकर समाज कल्याण विभाग के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। वहीं जिलाधिकारी के माध्यम से कुलपति को ज्ञापन प्रेषित कर शीघ्र समस्याओं के निस्तारण की मांग की।

शुक्रवार को महाविद्यालय के दर्जनों छात्र पूर्व विधायक विजयपाल सिंह सजवाण के नेतृत्व में कलक्ट्रेट परिसर पहुंचे। जहां पर सभी छात्रों ने समाज कल्याण विभाग के विरूद्ध जमकर प्रदर्शन किया। इस मौके पर छात्रों ने कहा कि छात्रवृत्ति से कोरोना महामारी के कारण वर्ष 2020-22 में बीएड की प्रवेश प्रक्रिया देर से शुरू हुई थी। वह छात्रवृति के लिए आवेदन करते इससे पूर्व समाज कल्याण विभाग की ओर से ऑनलाइन छात्रवृत्ति पोर्टल की बेबसाइट बन्द हो गई थी । जिस कारण बीएड में प्रवेश ले चुके छात्र/छात्राएं छात्रवृत्ति पान के लिए ऑनलाइन पोर्टल में अपना पंजीकरण नहीं कर पाए। और छात्रवृत्ति से वंचित रह गए। इसके साथ ही इन छात्र छात्राओं का कहना है कि वर्तामान समय में अभी तक बीएड कालेजो में प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं नहीं हुई है और छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन पोर्टल वेबसाइट को शासन द्वारा खोल दिया है। जब तक बीएड की प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं होती है तो फिर से शासन द्वारा पोर्टल को बंद कर दिया जाएगा। जिस कारण कोई भी छात्र-छात्राएं छात्रवृत्ति से बंचित रह जायेगे। छात्र छात्राओं का कहना है कि वह पिछले साल से ही शासन- प्रशासन से लगातार गुहार लगा रहे हैं कि सत्र 2020-22 के लिए छात्रवृत्ति पंजीकरण हेतु ऑनलाइन वेबसाइट पोर्टल को फिर से खोला जाए। ताकि सभी छात्र /छात्राओं को छात्रवृत्ति का लाभ मिल सके। लेकिन हमारी कोई भी सुनवाई नहीं हो रही है। जिस पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त कर जिलाधिकारी के माध्यम से कुलपति को ज्ञापपन प्रेषित किया और शीघ्र समस्याओं के निस्तारण की मांग की। इस मौके पर पूर्व ब्लॉक प्रमुख डुंडा कनकपाल परमार, छात्रसंघ महासचिव देवराज बिष्ट, आकाश भट्ट आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY