Home अपना दून दून नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने शुरू की अनिश्चिकालिन भूख हड़ताल

दून नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने शुरू की अनिश्चिकालिन भूख हड़ताल

977
0
SHARE

देहरादून। मृतक आश्रितों को नियुक्ति दिये जाने सहित सफाई कर्मचारियों की विभिन्न मांगों को लेकर सफाई कर्मचारी यूनियन ने सोमवार से नगर निगम परिसर में अनिश्चिकालिन भूख हड़ताल शुरू कर दी। यूनियन का आरोप है कि कर्मचारियों के हक-हुकूक के खिलाफ निगम के रवैये के चलते यूनियन को यह कदम उठाना पड़ा। सफाई कर्मचारियों के साथ कर्मचारियों के मृतक आश्रित परिजन भी भूख हड़ताल में शामिल रहे।

अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ की नगर निगम शाखा के अध्यक्ष राजेश कुमार एवं महामंत्री धीरज भारती के नेतृत्व में कर्मचारियों ने नगर निगम परिसर में अनिश्चिकालिन भूख हड़ताल शुरू कर दी। उनका कहना था कि सफाई कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान को लेकर निगम प्रशासन को बार-बार अवगत कराने एवं मौखिक अनुरोध करने के पश्चात भी समस्याओं का गंभीरता पूर्वक कोई समाधान नही हो पा रहा है, जिसके चलते कर्मचारियों में असंतोष बढ़ रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि मोहल्ला स्वच्छता समिति के सफाई कर्मियों को सचिव शहरी विकास के 22 नवंबर 2016 के शासनादेश के क्रम में संविदा हेतु 408 पदों पर संविदा में वरिष्ठता अनुसार समायोजित करने के आदेश थे जो आजतक भी पूरे नही हो पाए है। मृतक आश्रित के तीन मामले भी लंबे समय से लंबित पड़े हुए है। जिसके कारण परिवारों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। जबकि मृतक आश्रितों को पूर्व में भी अनुकंपा के आधार पर नियुक्तियां दी जाती रही है।

यूनियन ने मांग भी की है कि एक वार्ड में एक ही सुपरवाईजर रखा जाए ताकि सफाई निरीक्षण का कार्य भी सुचारू हो सके और कुछ अन्य सफाई कर्मचारी भी कार्यवाहक सुपरवाईजर बनाए जाएं। निगम के सीमा विस्तार के बाद बढ़ रहे वार्डो में जनसंख्या के हिसाब से 1000 सफाई कर्मचारियों की नई भर्ती की जाए। उनका यह भी कहना था कि इस संबंध में कई बार अवगत कराने के बाद भी निगम प्रशासन सफाई कर्मचारियो की समस्याओं के प्रति गंभीर नही दिख रहा है जिसकों लेकर यूनियन में रोष व्याप्त है। यूनियन की भूख हड़ताल को नगर विकास कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष नाम बहादूर व सचिव सतेन्द्र कुमार ने भी अपना समर्थन देने का ऐलान किया।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, Municipal Corporation, Cleanliness staff, Hunger Strike

LEAVE A REPLY