Home उत्तराखंड महिला कर्मचारी के यौन उत्पीड़न के आरोपी डीडीओ विमल कुमार गिरफ्तार

महिला कर्मचारी के यौन उत्पीड़न के आरोपी डीडीओ विमल कुमार गिरफ्तार

13
0
SHARE

उत्तरकाशी जिले में पुरोला के खंड विकास कार्यालय में महिला जेई के यौन उत्पीड़न के आरोपी उत्तरकाशी के जिला विकास अधिकारी विमल कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक मणिकांत मिश्रा ने बताया कि मामले की गहनता से जांच की जा रही है। आरोपी के खिलाफ यदि अन्य कोई शिकायत पाई जाती है तो उस पर भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

गत मंगलवार सायं को पुरोला ब्लॉक कार्यालय में तैनात एक महिला कर्मचारी ने थाना पुरोला में अपनी प्राथमिकी दर्ज कराई थी। जिसमें महिला कर्मचारी ने जिला विकास अधिकारी उत्तरकाशी विमल कुमार पर छेड़खानी व अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया था। महिला कर्मी ने पुलिस को दी गई तहरीर में बताया था कि डीडीओ ने ट्रांसफर को लेकर उसे पहले लोनिवि के गेस्ट हाउस में बुलाया। जहां आरोपी ने उसके साथ अमर्यादित व्यवहार करने का दबाव डाला।

इसका विरोध किया तो आरोपी ने जबरन छेड़छाड़ शुरू कर दी। लेकिन इस दौरान महिला कर्मी किसी तरह वहां से भागने में सफल हुई। महिला की तहरीर पर पुलिस ने देर शाम आठ बजे आरोपी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया। वहीं क्षेत्रीय लोगों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने देर रात को ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। बुधवार को पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे सात दिन की न्यायायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।


खंड कार्यालय में तैनात महिला कर्मचारी के साथ डीडीओ द्वारा की गई अश्लील हरकत पर स्थानीय लोगों में खासा आक्रोश है। बुधवार को आक्रोशित रामा सिराईं, कमल सिरांई क्षेत्र के ग्रामीण पुरोला मुख्य बाजार स्थित पुलिस चौकी पहुंचे। जहां पर सभी ग्रामीणों ने आरोपित डीडीओ विमल कुमार को जनता के हवाले करने व तत्काल जेल भेजने के साथ ही जिला बदर व बर्खास्तगी की मांग की। मामले को बढ़ता देख सीओ बड़कोट अनुज सिंह थानाध्यक्ष बड़कोट व थानाध्यक्ष पुरोला प्रदीप तोमर चौकी पहुंचे। जहां पर उन्होंने स्थानीय जनप्रतिधियों के साथ लेकर आक्रोशित लोगों से वार्ता की और उनको समझाकर किसी तरह शांत करवाया।

मयूर दीक्षित, डीएम उत्तरकाशी

महिला कर्मचारी के साथ छेड़छाड़ करने वाले आरोपी जिला विकास अधिकारी विमल कुमार की अन्य शिकायतें भी सामने आई हैं। जिसके लिए उसके निलंबन की संस्तुति व जिले से हटाने को लेकर शासन को रिपोर्ट प्रेषित कर दी गई है।

LEAVE A REPLY