Home स्वास्थ्य उत्तराखण्ड को टीबी की बीमारी से मुक्त बनाने के लिए कार्यशाला में...

उत्तराखण्ड को टीबी की बीमारी से मुक्त बनाने के लिए कार्यशाला में किया मंथन

52
0
SHARE

डीबीएल संवाददाता / देहरादून

उत्तराखण्ड को टीबी की बीमारी से पूरी तरह मुक्त नेटवर्क कार्यक्रम के तहत टीबी की रोकथाम के लिए उत्तराखण्ड राज्य टीबी सेल एवं ‘‘रीच संस्थान’’ द्वारा तीन दिवसीय राज्य स्तरीय क्षमता निर्माण कार्यशाला का सोमवार को समापन हो गया।

कार्यषाला के समापन मौके पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की महानिदेशक मुख्य अतिथि डा0 तृप्ति बहुगुणा ने कहा कि उत्तराखण्ड को टीबी मुक्त बनाने के लिए टीबी चैम्पियन की सक्रिय सहभागिता आवश्यक है, जिसके लिए पूरा स्वास्थ्य विभाग सहयोग प्रदान करेगा। स्टेट टीबी आॅफिसर डाॅ मयंक बड़ोला ने राज्य को टीबी मुक्त बनाने के लिए सभी लोगों से सहयोग की अपेक्षा जताई।

इस मौके पर रीच संस्था के स्मृति कुमार ने यूनाईट टू एक्ट प्रोजेक्ट से सम्बन्धित विभिन्न जानकारियां दीं। उन्होंने बताया कि यह कार्यक्रय राज्य के 05 जनपदों में चलाया जा रहा है एवं अन्य जनपदों में तकनीकी सहायता दी जायेगी।

कार्यक्रम के अंत में आईईसी अधिकारी, टीबी सेल अनिल सती ने कार्यशाला में मौजूद सभी प्रतिभागियों का आभार जताया। इस मौके पर में जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी देहरादून, पौड़ी, एमओटीसी इंचार्ज, जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी, हल्द्वानी, जिला कार्यक्रम अधिकारी नैनीताल, देहरादून, उधमसिंह नगर, टिहरी हरिद्वार, जिला कम्यूनिटी काॅर्डिनेटर रिजाबुल अहमद आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY