Home संस्कृति एवं संभ्यता आस्था : … तो द्वापर युग की धरोहर है पैठाणी का शिव...

आस्था : … तो द्वापर युग की धरोहर है पैठाणी का शिव मंदिर

29
0
SHARE

पंकज भार्गव

देवभूमि उत्तराखंड राज्य की संस्कृति ही नहीं अपितु यहां की आस्था और मान्यतायें भी दुनिया भर से अनूठी हैं। अराध्य देवी-देवताओं के मंदिर उन्हें पूजने के तरीके और धर्म के प्रति समर्पण भी यहां दर्शनीय है। राज्य के जनपद पौड़ी गढ़वाल के विकासखंड थलीसैंण स्थित पैठाणी का शिव मंदिर अपने आप में कई मान्यताओं को संजाये हुए है।

पैठाणी शिव मंदिर समिति के दिलवर सिंह कंडारी का कहना है कि भगवान शिव का यह मंदिर द्वापर युग मंे पांडवों ने बनाया था। पांडव अपने वनबास के दौरान इस स्थान पर आए थे। राहू नाम का राक्षस से अपने प्राणों की रक्षा के लिए उन्होंने इस स्थान पर भगवान शिव के मंदिर का निर्माण कर उनकी पूजा अर्चना की थी। पांडवों की भक्ति से प्रसन्न होकर शिव ने एक पत्थर की शिला के नीचे राहू को दबा दिया था। पूर्वी और उत्तरी नयार नदी के संगम स्थल पर एक भीमकाय पत्थर की शिला आज भी मौजूद है जिसे राहू शिला के नाम से जाना जाता है।

कुछ स्थानीय लोगों लोगों ने बताया कि पैठाणी के इस शिव मंदिर का निर्माण पांडवों ने एक रात्रि की समयावधि में ही कर दिया था।

LEAVE A REPLY