Home राजनीतिक जीरो टॉलरेंस वाली सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर –...

जीरो टॉलरेंस वाली सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर – मनमोहन लखेड़ा

716
0
SHARE

देहरादून। हमारी जनमंच पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मनमोहन लखेड़ा ने राज्य की भाजपा सरकार की कार्यशैली पर सवाला खड़े किए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि जीरो टॉलरेंस की सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। उत्तराखंड में कि कांग्रेस के बाद अब भाजपा प्रदेश को लूटने में लगी है। उन्होंने कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त करने की बात करते हैं वहीं दूसरी ओर अपने छोटे से आठ माह के कार्यकाल में ही चाय-पानी पर 68 लाख रूपये खर्च कर डाले। जबकि कर्मचारियों को देने के लिए सरकार के पास तनख्वाह तक के पैसे नहीं है।

जनमंच पार्टी अध्यक्ष मनमोहन लखेड़ा ने सोमवार को प्रेसवार्ता के दौरान कहा है कि प्रदेश में स्वास्थ्य, सड़क और शिक्षा के हालत किसी से छुपे नहीं हैं। एक तरफ विश्व बैंक से हजारों करोड़ ऋण लिया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर चाय पानी पर लाखों रुपये लुटाए जा रहे हैं। यही नहीं हवाई यात्राओं पर भी बेहसाब पैसा लुटाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्थिति यह है कि हेलिकॉप्टर की सेवा विशेष परिस्थितियों के लिए है, लेकिन सीएम तकरीबन हर रोज हेली सेवा का लाभ ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह सरकार की मितव्ययता का कौन सा उदाहरण पेश कर रहे हैं। इसका उन्हें जनता को जवाब देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के केवल आठ माह के कार्यकाल में ही सचिवालय दफ्तर में 68 लाख से अधिक अकेले चाय नाश्ते पर ही खर्च किए हैं। उन्होंने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यवश है कि जिस प्रदेश में चाय नाश्ते पर खुलकर फिजूलखर्ची हो रही है उस प्रदेश में विकास कार्यों की परिकल्पना कैसे की जा सकती है। , उन्होंने कहा कि सीएम अपने भाषणों में मितव्ययता और जीरो टॉलरेंस की तो बात करते हैं, लेकिन यह बात वह शायद खुद और अपने मंत्रियों को लागू नहीं करते। उन्होंने कहा कि जनता के पैसों को इस तरह लुटाना क्या भ्रष्टाचार की श्रेणी में नहीं आता।

Key Words : Uttarakhand, Dehradun, CM, Hamari Janmanch Party, Allegation

LEAVE A REPLY