Home संस्कृति एवं संभ्यता संस्कृति : गंगोत्री विधायक ने ‘बटर फेस्टिवल’ का विधिवित तरीके से किया...

संस्कृति : गंगोत्री विधायक ने ‘बटर फेस्टिवल’ का विधिवित तरीके से किया शुभारंभ

24
0
SHARE

डीबीएल संवाददाता / उत्तरकाशी।

उत्तरकाशी जिले के दयारा बुग्याल में संस्कृति और स्थानीय परंपरा के प्रतीक बटर फेस्टिवल (अढूडी उत्सव) का शुभारंभ गंगोत्री विधायक सुरेश चैहान ने विधिवत तरीके से किया। इस अवसर पर विधायक चौहान ने क्षेत्रवासियों को अपनी शुभकामनायें देते हुए कहा कि यह उत्सव हमारी पारंपारिक संस्कृति को दर्शाता है।

उत्तरकाशी जिले में 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित दयारा बुग्याल में क्षेत्र के विधायक सुरेश चौहान ने बटर फेस्टिवल का शुभारंभ करते हुए कहा कि सूबे की सरकार स्थानीय संस्कृति के संरक्षण के साथ पर्यटन के जरिये लोगों की आर्थिकी को मजबूत करने के लिये हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने उत्सव में पहुंचे लोगों के साथ दूध और मक्खन की होली भी खेली।

इस मौके पर जिलाध्यक्ष भाजपा रमेश चौहान,सहकारी बैंक के अध्यक्ष विक्रम सिंह रावत, जिला महामंत्री भाजपा हरीश डंगवाल,एसपी अपर्ण यदुवंशी,अपर जिलाधिकारी तीर्थपाल सिंह,सीएमओ डॉ केएस चौहान,एसडीएम चतर सिंह चौहान, डीएसओ संतोष भट्ट,जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल सहित सामिति के पदाधिकारी एवं स्थानीय जनता व पर्यटक उपस्थित रहे।

प्रकृति का आभार जताना है उत्सव का मकसद :

जिला मुख्यालय उत्तरकाशी से 42 किलोमीटर की सड़क दूरी और भटवाड़ी ब्लॉक के रैथल गांव से 9 किलोमीटर पैदल दूरी पर स्थित 28 वर्ग किलोमीटर में फैले दयारा बुग्याल में सदियों से अढूंड़ी उत्सव मनाया जाता है। गर्मी का मौसम शुरू होते ही रैथल समेत आसपास के गांवों के ग्रामीण अपने मवेशियों के साथ बुग्याली क्षेत्रों में स्थित अपनी छानियों में चले जाते हैं। पूरे गर्मी के मौसम में वह वहीं रहते हैं। वे अंढूड़ी उत्सव (बटर फेस्टिवल) मनाकर ही गांव लौटते हैं। लौटने से पहले स्थानीय ग्रामीण प्रकृति का आभार जताने के लिए पुराने समय से इस उत्सव का आयोजन करते आ रहे हैं।

समिति अध्यक्ष ने उठाईं मांगें :

दयारा बुग्याल पर्यटन सामिति के अध्यक्ष मनोज राणा ने गंगोत्री विधायक से दयारा बुग्याल मेले को राजकीय मेला घोषित करने, रैथल, नटीण, बार्सू, दयारा बुग्याल ट्रैक मार्गों का सुधारीकरण का कार्य किये जाने के साथ ही रैथल गांव से गोई बेस कैंप तक रोपवे का निर्माण करवाये जाने की मांगे भी रखीं।

LEAVE A REPLY